Top Stories

मुंबई ! शिओमी  रेडमी 4 की पहली ऑफर सेल 23 मई दोपहर 12 बजे से अमेजिंग पर शुरू होने जा रही है। यह डिवाइस कंपनी के स्टोर पर भी मंगलवार से उपलब्ध होगी। 16 मई को रेडमी 4 तीन वेरिएंट में लांच हुआ था।

बतादें कि इसमें 2जीबी रैम और 16 जीबी इंटरनल स्टोरेज वाले मॉडल की कीमत 6,999 रुपया रखी गई है। वही 3 जीबी रैम और 32जीबी इंटरनल स्टोरेज वाला मॉडल 8,999 रुपए में तथा 4जीबी रैम के साथ 64 जीबी इंटरनल मेमोरी वाला फोन 10999 रुपए में उपलब्ध होगा।

सबसे कम दामों में से एक दाम पर आनेवाले समय में स्‍मार्ट फोन वह भी बहुत उन्‍नत और प्रभावी तकनीक एवं यंत्रों से लेस जल्‍द बाजार में आने वाला है । इसे बाजार में उतार रही है भारतीय स्मार्टफोन निर्माता कंपनी लावा । कंपनी ने वैसे तो ए 77 हैंडसेट लॉन्च कर दिया है जिसकी कि कीमत 6,099 रुपये रखी गई है। पर इसे अभी फिलहाल पा पना आसान नहीं । वह इसलिए कि इसे कंपनी ने अभी अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर लिस्ट किया है । इस फोन को लेकर कहा यहां तक जा रहा है कि यह आनेवाले दिनों में जल्‍द ही 4,999 रुपये में उपलब्ध होगा। 

इस स्‍मार्ट फोन में 4.5 इंच का एफडब्ल्यूवीजीए डिस्प्ले दिया है जो पिक्सल रेजोल्यूशन 800 x 480 पर काम करता है। फोटोग्राफी के लिए इसमें 5 मेगापिक्सल का रियर कैमरा दिया गया है जोकि एलईडी फ्लैश से लैस है । साथ ही एलईडी फ्लैश के साथ 5 मेगापिक्सल का सेल्फी कैमरा भी इसमें है। फोन को पावर देने के लिए इसमें 2000 एमएएच की बैटरी दी गई है।

कनेक्टिविटी के लिए फोन में 3जी, वाई-फाई 802.11 बी/जी/एन, ब्लूटूथ वी4.0, यूएसबी पोर्ट और जीपीएस जैसे फीचर्स शामिल हैं। लावा का यह स्‍मार्ट फोन एंड्रायड मार्शमैलो पर काम करता है। फोन 1.3 गीगाहर्ट्ज क्वाड कोर प्रोसेसर और 1 जीबी रैम से लैस है । इसमें 8 जीबी की इंटरनल स्टोरेज दी गई है, जिसे माइक्रोएसडी कार्ड के जरिए 32 जीबी तक बढ़ाया जाना संभव है ।

एलजी कंपनी ने अभी हाल ही में बाजार में स्टाइलो 3 प्लस स्मार्टफोन उतारा है । देखाजाए तो इस फोन की खासीयत ही इसे खास बनाती है । 13 एमपी कैमरा और 3080 एमएएच बैटरी से लेस इसे फिलहाल अमेरिकन मार्केट से खरीदा जा सकता है । इसे 5 मेगापिक्सल सेल्फी कैमरा दिया गया है जो फेस डिटेक्शन फीचर से लैस है । कंपनी का कहना है कि इसे जल्‍द दुनियाभर में उपलब्‍ध करा दिया जाएगा । फोन की कीमत 225 डॉलर यानि करीब 14,600 रुपये है। यह फोन एंड्रायड 7.0 नॉगट पर काम करता है। 

फोन में 5.7 इंच का फुल एचडी डिस्प्ले दिया गया है, जो 1080 x 1920 पिक्सल रेजोल्यूशन के साथ है। कनेक्टिविटी के लिए फोन में वाई-फाई बी/जी/एन, ब्लूटूथ 4.2, एनएफसी और 4जी वीओएलटीई सपोर्ट जैसे फीचर्स मौजूद हैं । रिमूवेबल बैक कवर और बैटरी से लैस एक पतला मेटल फ्रेम दिया गया है। नेविगेट करने के लिए ऑन स्क्रीन बटन दिए गए हैं । यह फोन 1.4 गीगाहर्ट्ज स्नैपड्रैगन 435 ऑक्टा-कोर प्रोसेसर और 2 जीबी रैम से लैस है । इसमें दी गई 32 जीबी की इंटरनल मैमोरी को यूजर्स आवश्‍यकतानुसार माइक्रोएसडी कार्ड के जरिए बढ़ा सकते हैं । फोन में केवल सिंगल सिम स्लॉट दिया गया है ।

इसमें दी गई 3080 एमएएच की बैटरी को लेकर कंपनी का यह दावा है बैटरी एक बार चार्ज होने के बाद लगातार 14 घंटे तक का टॉक टाइम और 25 घंटे तक का स्टैंडबाय टाइम देगी । यानि कि आप इसे लगातार चौदह घंटे तक उपयोग कर सकेंगे, ऐसे में आपको अपने साथ बैटरी बेकप लेकर चलने की जरूरत शायद ही पड़े ।

कंपनी ने बहुप्रत्‍याशित अपडेट नए नोकिया 3310 फोन को 3310 रुपए की कीमत के साथ आज बाजार में पेश कर दिया, जोकि देश के प्राय: सभी स्‍टोर्स पर उपलब्‍ध करा दिया गया है । इसे HMD ग्लोबल कंपनी ने बनाया है। फोन में 2.4 इंच का डिस्प्ले दिया गया है । जिसका रेजोल्यूशन QVGA 240×320 पिक्सल है ।

इसमें कनेक्टिविटी के लिए, माइक्रो USB, 3.5mm AV कनेक्टर, ब्लूटूथ 3.0 के साथ SLAM दिया गया है । इस फोन की खासीयत यह है कि फोन सीरीज 30+ ऑपरेटिंग सिस्टम पर काम करेगा, जिसमें कि दो सिम एकसाथ काम करेंगी तथा 16 GB स्टोरेज मौजूद है , जिसे कि यदि आप चाहें तो अपनी सुविधानुसार माइक्रोएसडी कार्ड के जरिये 32 GB तक बढ़ा सकते हैं ।

इसमें क्लासिक न्यूमेरिक की बोर्ड के साथ 1,200 mAh की बैटरी दी गई है, जो लगभग 22 घंटे का टॉक टाइम और 1 महीने का स्टैंडबाई टाइम देती है । मूल नोकिया 3310 फोन का खास फीचर में से एक 'Snake', जो नए नोकिया फोन में पहले से लोड है।

नए नोकिया 3310 में स्नेक गेम भी है, इसके अलावा भी फोन दूसरे गेम मौजूद है। उधर, फोन में फोटोग्राफी के लिए 2 मेगापिक्सल का कैमरा LED फ्लैश के साथ दिया गया है। फोन का डाईमेनशन 115.6 x 51.0 x 12.8 मिमी और वजन 79.6 ग्राम है ।

नई दिल्ली। गूगल ने अपने एंड्रॉइड स्मार्टफोन ऑपरेटिंग सिस्टम को वायरस हमले के बाद और सुरक्षित बनाने का काम किया है। गूगल ने नया ऑपरेटिंग सिस्टम एंड्रॉयड ओ लांच किया है। इसमें गूगल प्ले प्रोटेक्ट नाम की सेवा शामिल होगी। जो एप्स स्कैन करके उसके माल वेयर की जांच करेगी।

गूगल के इस नए वर्जन में नोटिफिकेशन, कॉपी, पेस्ट, ट्रांसलेशन सहित कई अन्य सुविधाएं नए रूप में प्राप्त होंगी। गूगल ने सस्ते स्मार्टफोन के लिए एंड्रॉयड गो को लांच करने की घोषणा भी की है।

सैमसंग के पॉपुलर स्मार्टफोन जे-5 और जे-7 नई खूबियों के साथ बाजार में आने को तैयार हैं। स्मार्टफोन के अपग्रेडेड वर्जन को लेकर सामने आई नई जानकारी के मुताबिक जे-5 में पिछले वेरिएंट की तरह 5.2 इंच का एचडी एमोलेड डिस्प्ले दिया गया है जबकि जे-7 में भी पहले की तरह 5.5 इंच का फुल एचडी डिस्प्ले होने का दावा किया गया है। लीक हुई रिपोर्ट में दावा किया जा रहा है कि दोनों ही स्मार्टफोन एंड्रॉयड के लेटेस्ट 7.0 नॉगर ऑपरेंटिग पर ही चलेंगेा सैमसंग के नये जे-5 और जे-7 में इस बार मेटल बॉडी होने की जानकारी भी इसी रिपोर्ट में सामने आई है। दोनों स्मार्टफोन के होम बटन में फिंगरप्रिंट सेंसर सपोर्ट भी दिया जाएगा।

रिपोर्ट में दावा किया जा रहा है कि दोनों ही स्मार्टफोन्स में 13 मेगापिक्सल का रियर कैमरा दिया गया है जबकि फ्रंट कैमरा में अपग्रेड के तौर पर 13 मेगापिक्सल का कैमरा एलईडी फ्लैश के साथ दिया गया है। जे-5 में 1.4 गीगाहर्ट्ज का क्वॉड-कोर प्रोसेसर 2GB रैम के साथ आएगा जबकि जे-7 स्मार्टफोन में 1.6 गीगाहर्ट्ज का प्रोसेसर 3GB रैम दी जा सकती है। जे-5 में 3000मेगाहर्तज की बैटरी और जे-7 में 3600मेगाहर्तज की बैटरी का अनुमान लगाया है। रिपोर्ट में दोनों ही स्मार्टफोन के जल्द ही लॉन्च होने की बात कही गई है. भारतीय बाजार में नये जे-5 की कीमत 20 हजार रुपए के करीब और जे-7 की कीमत करीब 24 हजार रुपए हो सकती है।

भारतीय स्मार्टफोन निर्माता Omicron कंपनी ने अपना नया स्मार्टफोन OKWU लांच किया है। इस स्मार्टफोन की 10499 रुपए की कीमत में उतारा गया है। इस हैंडसेट में कंपनी ने फिंगरप्रिंट स्कैनर भी दिया है। इस फोन की एक और खास बात यह है कि इसकी बॉडी मेटल से बनी है।

OKWU Omicron में 5.5 इंच की फुल HD IPS डिस्प्ले स्क्रीन लगी है। इसमें 3GB रैम, 1.5GHz क्वॉडकोर MediaTek MT6737T प्रोसेसर और 32GB की इंटरनल मेमोरी है। इसमें 64GB तक का मेमोरी कार्ड लगता है।

कंपनी ने इस फोन में 13 मेगापिक्सल का कैमरा और 5 मेगापिक्सल का फ्रंट कैमरा दिया है। इसके दोनों ही कैमरे LED फ्लैश के साथ है। इसमें 3000mAh की बैटरी दी गई है जो 16 घंटे तक का कॉलिंग टाइम देती है।

HTC U 11 स्मार्टफोन 16 मई को लॉन्च हो रहा है। लेकिन लॉन्च से पहले ही इस स्मार्टफोन का नया वीडियो लीक हो चुका है। इस हैंडसेट की लीक हुइ तस्वीर और स्पेसिफिकेशन समेत वीडियो इंटरनेट पर आ चुके हैं। इस वीडियो में दिखने वाला HTC स्मार्टफोन रेड कलर का है। इसमें 3.5mm ऑडियो जैक और यूएसबी टाइप-सी पोर्ट भी है। इसके अलावा रियर पैनल पर सिंगल लेंस कैमरा एलईडी फ्लैश के साथ है।

HTC का यह ‘squeezable स्मार्टफोन‘ है जो स्नैपड्रैगन 835 SoC प्रोसेसर के साथ आ रहा है। HTC U 11 में 5.5 इंच की QHD स्क्रीन है। इसके अलावा इसमें 4 जीबी की रैम, 12 मेगापिक्सल का रियर कैमरा और 16 मेगापिक्सल का फ्रंट फेसिंग कैमरा हो सकता है। इसमें एंड्रॉयड 7.1 नॉगट ओएस हो सकता है। इसके अलावा इसमें 4जीबी या 6जीबी रैम होगी। यह हैंडसेट 64जीबी और 128 जीबी की इंटरनल स्टोरेज वेरियंट में मिल सकता है। यह स्मार्टफोन 3000mAh की बैटरी वाला है जिसमें क्विक चार्जिंग तकनीक है।

खबर है कि HTC U 11 स्मार्टफोन दुनिया का पहला एज सेंसर वाला स्मार्टफोन होगा। इसलिए इसे Squeezable नाम दिया गया है। इसका मतलब ये है कि इस स्मार्टफोन के ऊपरी हिस्से के डिस्प्ले फ्रेम सेंसर से लैस होंगे। इस टच-सेंसटिव फ्रेम की मदद से यूजर वॉल्यूम कम-ज्यादा कर करने और एप एक्सेस समेत फोन को कंट्रोल कर सकते हैं।

नई दिल्ली। अब लेनोवो भी भारत में फिटनेस ट्रैकर कंपनियों की दौड़ में शामिल हो चुकी है। इस कंपनी ने अपने Smart Band HW01 फिटनेस ट्रैकर को लॉन्च किया है। इस 1999 रुपए की कीमत में फ्लिपकार्ट पर ब्लैक कलर में एक्सक्लूसिव तौर पर उपलब्ध कराया गया है।

Lenovo Smart Band HW01 में 0.91 इंच की OLED डिस्प्ले स्क्रीन दी गई है। यह आपको नियमित रुप से फिटनेस ट्रैकिंग डेटा जैसे टाइम, स्टेप्स और हार्ट रेट बताएगा। इसके अलावा इसमें 'स्पोर्ट्स मोड' के अंदर डायनेमिक हार्ट रेट मॉनिटर भी दिया गया है। यह हर 15 मिनट में हार्ट रेट की मॉनिटरिंग करता है। इसके बाद हार्ट रेट एक निश्चित सीमा तक पहुंच जाएगी तो वाइब्रेट करेगा।

इस फिटनेस ट्रैकर में एक एंटी-स्लीप मोड भी है जो यूजर द्वारा तय किए गए समय से पहले सोने पर उसें वाइब्रेशन करके जगा देता है। इतना ही नहीं बल्कि यह ट्रैकर यूजर को ड्राइव करते समय या रात में काम करते समय झपकियां लेने पर या ध्यान भटक जाने पर अलर्ट भी करता रहेगा। यह बैंड सोशल मीडिया जैसे ई-मेल, WhatsApp या Facebook नोटिफिकेशन के अलर्ट्स भी देता है।

लेनोवो Smart Band HW01 का यूज एंड्रायड और ios स्मार्टफोन से फोटोज लेने और म्यूजिक कंट्रोल करने के लिए भी किया जा सकता है। सिलिकॉन स्ट्रैप से बने इस बैंड का वजन 22 ग्राम है और साथ ही यह रेसिस्टेंट भी है। इसमें 85mAh की बैटरी लगी है, 5 दिन तक चलती है।

क्या आपने कभी ये सोचा है कि चैटिंग के अलावा फेसबुक और व्हाट्सएप के जरिए कई बातों का पता लगाया जा सकता है? आपको बता दें कि आप फेसबुक और व्हाट्सएप के जरिए अपने दोस्त की लोकेशन जान सकते हैं।

तो हम आज आपको एक ऐसी ट्रिक बताने जा रहे हैं, जिसके द्वारा आप सामने वाले व्यक्ति की लोकेशन का पता लगा सकते हैं। इसके लिए आपको नीचे दिए कुछ आसान से उपाय करने होंगे।

लोकेशन ट्रेस करना
1. सबसे पहले, अपने दोस्त से चैट करना शुरू करें, जिसका IP एड्रेस आपको चाहिए। ये सुनिश्चित कर लें कि कंप्यूटर में चल रही सभी एप्स बंद हो। अब कीबोर्ड में Win+R को प्रेस करें।
2. अब टाइप करें cmd और एंटर करें।
3. अब एंटर करने के बाद में कमांड प्रोम्प्ट में netstat-an टाइप करें और एंटर करें।
4. अब उस आदमी का IP एड्रेस नोट कर लें।
5. अब आपको इस लिंक के साथ IP एड्रेस को टाइप कर उसको स्कैन करना होगा, जिससे आप लोकेशन जान सकते है।

स्मार्टफोन निर्माता कंपनी एचटीसी ने अपना नया हैंडसेट वन एक्स10 लॉन्च कर दिया है। यह वन एक्स9 स्मार्टफोन का अपग्रेड वर्जन है। इसकी कीमत 355 डॉलर यानि करीब 23,000 रुपये है। यह फोन ब्लैक और सिल्वर कलर वेरिएंट में उपलब्ध कराया जाएगा। इस फोन को फिलहाल रूस में ही लॉन्च किया गया है। इसे बाकि देशों में कब पेश किया जाएगा, इसकी फिलहाल कोई जानकारी नहीं दी गई है। इस फोन को रुस में इसी महीने से बिक्री के लिए उपलब्ध करा दिया जाएगा।

इसमें 5.5 इंच का फुल-एचडी सुपर एलसीडी डिस्प्ले दिया गया है, जिसका पिक्सल रेजोल्यूशन 1080×1920 है। इसपर कॉर्निंग गोरिल्ला ग्लास की प्रोटेक्शन दी गई है। यह फोन ऑक्टा-कोर मीडियोटेक पी10 प्रोसेसर और 3 जीबी रैम से लैस है। इसमें 32 जीबी की इंटरनल मेमोरी गई है, जिसे माइक्रोएसडी कार्ड के जरिए 2 टीबी तक बढ़ाया जा सकता है। यह फोन एंड्रायड पर आधारित एचटीसी सेंस पर काम करता है। फोन को पावर देने के लिए फास्ट चार्जिंग सपोर्ट के साथ 4000 एमएएच की बैटरी दी गई है। कंपनी ने दावा किया है कि यह बैटरी 26 घंटे तक का टॉक टाइम और 3जी नेटवर्क पर 31 दिनों का स्टैंडबाय टाइम देने में सक्षम है।

यह डुअल सपोर्ट स्मार्टफोन है। इसके दोनों सिम स्लॉट 4जी को सपोर्ट करते हैं। फोटोग्राफी के लिए इसमें 16 मेगापिक्सल का रियर कैमरा दिया गया है, जो ऑटोफोकस, बीएसआई सेंसर, एफ/2.0 अपर्चर और एलईडी फ्लैश से लैस है। साथ ही इसमें फिक्स्ड फोकस, बीएसआई सेंसर और एफ/2.2 अपर्चर से लैस 8 मेगापिक्सल का फ्रंट कैमरा दिया गया है। इस फोन से फुल-एचडी वीडियो रिकॉर्डिंग की जा सकती है। कनेक्टिविटी के लिए इसमें ब्लूटूथ 4.2, वाई-फाई 802.11 ए/बी/जी/एन, डीएलएनए, जीपीएस, ग्लोनास और मीराकास्ट जैसे फीचर्स दिए गए हैं।

 

स्मार्टफोन युवाओं से लेकर आजकाल हर वर्ग को अपनी ओर आकर्षित कर रहा है। इसके बिना हम कहीं एक कदम नहीं जा सकते, फोन ने हमारी ज़िंदगी को इतना सरल जो बना दिया है। नए-नए फीचर्स और अपडेट्स के बदौलत हम इंटरनेट के ज़रिये हमेशा कनेक्टेड रहना चाहते हैं। और यही वजह है कि हम इंटरनेट के इतने आदी हो गए हैं कि हम जहां जाते हैं वहीं नेट ढूंढते हैं। और यही वजह है कि हम रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट, मॉल, बस अड्डे, होटल या अन्य जगहों पर फ्री वाई-फाई का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन आप को सावधान होने की ज़रूरत है क्योंकि इंटरनेट से कनेक्ट होने की जल्दी में हम यह भूल जाते हैं कि हम सार्वजनिक वाई-फाई का इस्तेमाल कर रहे हैं और ये अनसेफ हो सकते हैं। इसलिए आप बाद में फ्री इंटरनेट इस्तेमाल कर पछताएं, इससे तो बेहतर है कि पहले ही कुछ बातों का ध्यान रख लिया जाए। यदि सावधानी ना बरती गई तो आपको कई मुसीबतों का सामना करना पड़ सकता है। आपको यह मालूम होना चाहिए कि सार्वजनिक वाई-फाई के इस्तेमाल से, आपके स्मार्टफोन से कई संवेदनशील जानकारियां चुराई जा सकती हैं। इससे बचने के लिए हम आपको विस्तार से बताएंगे ऐसी ही कुछ ज़रूरी बातें जिनको जानकर आप इस रिस्क से बच सकते हैं। तो आइये जानते हैं-

सबसे पहले तो यह है कि आपको हमेशा अपने स्मार्टफोन के सॉफ्टवेयर को अप-टु-डेट रखना चाहिए। क्योंकि ऑपरेटिंग सिस्टम्स सिर्फ़ स्मार्टफोन्स के लिए ज़रूरी इंटरफेस ही नहीं मुहैया करवाते बल्कि खतरों से भी बचाते हैं। इसके लिए समय-समय पर फोन कंपनियां सिक्यॉरिटी अपडेट्स जारी करती ही रहती हैं, जो खामियों को दूर करते हैं और अन्य खतरों से भी स्मार्टफोन्स को बचाते हैं। इसलिए सिर्फ पब्लिक वाई-फाई ऐक्सेस करने के लिहाज से नहीं, आपको वैसे भी अपने फोन का ऑपरेटिंग सिस्टम अपडेटेड रखना चाहिए।

सबसे ध्यान रखने वाली बात ये है कि पब्लिक वाई-फाई कनेक्शन के ज़रिये ऑनलाइन बैंकिंग या शॉपिंग बिल्कुल ना करें, ये करना असुरक्षित है। हैकर चाहें तो आपके अकाउंट्स की डीटेल्स को हैक कर सकते हैं। यदि कोई ज़रूरी ट्रांज़ैक्शन करनी हो तो कोशिश करें कि मोबाइल डेटा इस्तेमाल करें या फिर वीपीएन इस्तेमाल करें। नहीं तो, ब्राउज़र पर नेट बैंकिंग करने के बजाय बैंक के ऑफिशियल एप्प का इस्तेमाल करें क्योंकि उसमें एनक्रिप्शन होता है। और अगर ज़रूरी है तो इसी तरह से स्थापित कंपनियों के एप्स के ज़रिये ही शॉपिंग करें।

सार्वजनिक वाई-फाई यूज़ करने से पहले यह सुनिश्चित कर लें कि फोन में सिक्यॉरिटी सॉफ्टवेयर इंस्टॉल्ड है। आईओएस स्मार्टफोन्स के लिए दिक्कत नहीं है मगर ऐंड्रॉयड पर मैलवेयर आ सकते हैं। इससे बचने के लिए आप कोई ऐसा ऐंटीवायरस डालें जिसमें फायरवॉल, मैलवेयर स्कैनिंग और रिमूवल जैसे फीचर्स हों। दरअसल, पब्लिक वाई-फाई कनेक्ट करने से संभावना है कि अन्य डिवाइसेज के मैलवेयर आपके फोन पर आ सकते हैं। यह गलती से हो सकता है और तभी हो सकता है, जब हैकर्स जानबूझकर ऐसा कर रहें हों। ऐसे में आपके लिए ऐंटी-मैलवयेर एप्स काफी मददगार साबित हो सकते हैं।

अगर आप सार्वजनिक जगह पर वाई-फाई नेटवर्क का इस्तेमाल कर रहे हैं और लग रहा है कि कनेक्शन स्लो है तो तुरंत उसे डिस्कनेक्ट कर दें। और अगर साइन-इन पेज पर भी जाने में दिक्कत हो रही है, तब भी डिस्कनेक्ट करें। क्योंकि स्पीड इसलिए कम हो सकती है, अगर राउटर वायरस की चपेट में हो। ऐसा भी हो सकता है कि आप मेन राउटर के बजाय किसी और राउटर से कनेक्ट हो गए हों और कोई और आपका डेटा अन्य डिवाइस के ज़रिये ऐक्सेस कर रहा हो। दरअसल, साइबर क्रिमिनल आसपास वाई-फाई सिग्नल ट्रैक करते रहते हैं और मिलते ही वे तुरंत अपने पीसी को फेक राउटर में तब्दील कर देते हैं। जैसे ही कोई यूज़र मेन राउटर के बजाय उनके डिवाइस से कनेक्ट करता है, वे उसके ज़रिये भेजे जाने वाले सारा डेटा कॉपी कर लेते हैं।

अगर आप अक्सर फ्री वाई-फाई यूज़ करते हैं तो अपने सभी ऑनलाइन अकाउंट्स, खासकर पर्सनल मेल और बैंक अकाउंट्स पर टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन ऑन कर रखें। दरअसल, टू फैक्टर ऑथेंटिकेशन में सामान्य पासवर्ड के अलावा आपको ओटीपी भी डालना होता है, जिसके बिना आप लॉगइन नहीं कर पाएंगे। यह बेहद ज़रूरी है क्योंकि अगर किसी ने पब्लिक वाई-फाई के ज़रिये आपके पासवर्ड का पता लगा लिया होगा, तब भी वह कुछ नहीं कर पाएगा।

वीपीएन के इस्तेमाल से पब्लिक वाई-फाई इस्तेमाल से होने वाले खतरों को कम किया जा सकता है। पहले डेस्कटॉप और लैपटॉप पर ही वीपीएन (वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क) को इस्तेमाल किया जा सकता था मगर अब एप्स भी मौजूद हैं। ये एप्स सुरक्षित वीपीएन सर्वर से कनेक्ट कर, आपके डेटा को एनक्रिप्ट करते हैं। वीपीएन के कई फायदे हैं, जैसे आपके देश में कोई वेबसाइट ब्लॉक हो तो उसे भी देखा जा सकता है।

अगर आप वाई-फाई पर काम पूरा कर चुकें हैं तो स्मार्टफोन या टैब का वाई-फाई स्विच ऑफ कर दें। ज्यादातर लोग इस बात पर ध्यान नहीं देते हैं। यदि आप इसे डिसेबल नहीं करेंगे तो चुपके से कोई आपके फोन में वायरस डाल सकता है। (शैव्या शुक्ला)

Advertisement
Sign up via our free email subscription service to receive notifications when new information is available.